Vande Bharat Mission Phase 3 : उद्देश्य, पात्रता, ऑपरेशन समुद्र सेतु 2020

Vande Bharat Mission Phase 3 | ऑपरेशन समुद्र सेतु 2020 | वंदे भारत मिशन 3 का उद्देश्य | Vande Bharat Flight Rate | वंदे भारत फ्लाइट | vande Bharat Eligibility

दोस्तों हम सभी लोग जानते हैं कि यात्रियों को प्रवास करने के लिए रेलवे लाइंस और एयर लाइन्स दोनों का सहारा लेना पड़ता है। खास करके तब जब देश से बाहर जाना हो या कहीं दूसरे राज्य में प्रवेश करना हो। ऐसी स्थिति में अगर उन को ले जाने वाली सुविधाओं पर रोक लगा दिया जाए।

तब आप सोच सकते है में इनको कितनी ज्यादा मुसीबतों का सामना करना पड़ता होगा। ऐसा ही कुछ हमारे भारतीय यात्रियों के साथ हुआ है, वैसे तो हम सब इस बात से एकदम वाकिफ है कि जब से कोरोनावायरस इस दुनिया में आया है तब से हर चीजों पर रोक लगा दी गई है। जो जहां पर है वहीं रुक गए हैं कहीं पर नहीं जा सकते।

जिसकी वजह से बाहर देश में रहने वाले हमारे भारतीय भी हमारे भारत में प्रवेश नहीं कर सकते हैं। इसी से ताल्लुक रखते हुए Vande Bharat Mission Phase 3 को बनाया गया है। ताकि बाहर जितने भी हमारे भारतीय हैं उनको भारत दुबारा वापस लाया जाए। इन के लिए एक विशेष तरह के का ख्याल रखा गया है कि जब भी मैं भारत लाए जाएंगे तब उनको सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा।

उसी के साथ साथ सारे कड़े नियमों को भी फॉलो करना होगा।।भारत से गए बाहर लोगों को वापस भारत में लाने के लिए पंजीकरण शुरू कर दिया गया है। तो आइए जानते हैं Vande Bharat Mission Phase 3 क्या है Vande Bharat Mission Phase 3 के उद्देश्य क्या है। उसी के साथ साथ कैसे प्रवासियों को इसका लाभ होगा और किस प्रकार से लोगों को दोबारा भारत लाया जाएगा।

Vande Bharat Mission Phase 3 : उद्देश्य, पात्रता, ऑपरेशन समुद्र सेतु 2020

Vande Bharat Mission Phase 3 2020

कोरोना की इस महामारी के कहर के कारण पूरी दुनिया जैसे नष्ट सी हो गई है। जो जैसा और जाहां पर है वहीं पर है। वर्तमान में लगभग 17.5 मिलियन भारतीय लोग विदेशों में रहते हैं। भारत ने कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने के लिए मार्च में देश मे होने वाले लोकडौन की घोषणा की थी। उसी के साथ ही भारत आने में वाले और विदेश जाने वाले सभी हवाई उड़ानों पर रोक लगा दी थी। इस कारण बहुत से लोग विदेशों में ही फंसे हुए हैं, जिसकी वजह से वह भारत दोबारा नहीं लौट कर आ नही पा रहे हैं। उनको लौटने में काफी ज्यादा मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

अब इन लोगों को विदेश रूप से घर वापिस लाने की पहल चल रही है। आइए आपको बताते हैं कि क्या है Vande Bharat Mission Phase 3. इसमें केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पूरी ने बताया कि विदेशों में बसे भारतीयों को वापस लाने के लिए 7 मई से 13 मई तक 64 विशेष फ्लाइट संचालित किए जाएंगे। हालांकि पहले हफ्ते में 15 उड़ानों का संचालन किया जाएगा। कई एजेंसियों के सहयोग से चलाए जाने वाले भारत मिशन के तहत विशेष उड़ानें ब्रिटैन, अमेरिका, सिंगापुर, मलेशिया, कुवैत, सऊदी अरेबिया, फिलीपीन, संयुक्त अरब अमीरात्स्य और बांग्लादेश को भेजी जाएगी।

इन विशेष फ्लाइट्स में केवल 200 से 300 यात्रियों को ही बैठने की इजाजत दी जाएगी। इसका मतलब यह है कि इन विशेष विमानों में भी सोशल डिस्टनसिंग का भी कड़ाई से पालन किया जाएगा। आपको बता दें दोस्तों के खाली क्षेत्र में तीन लाख से अधिक लोगों ने वहां से निकलने के लिए पंजीकरण कराया है। लेकिन अभी फिलहाल उन लोगों को वापस लाया जाएगा जिनका वीजा खत्म होने वाला है। चिकित्सा संबंधीत आपात स्तिथि है या फिर निर्वासन की संभावना के जैसे अत्यावश्यक कारण है।

Jaganna Chedodu scheme

Vande Bharat Mission Phase 3 का उद्देश्य

Vande Bharat Mission Phase 3 का उद्देश्य यही है कि जितने भी भारतीय लोग बाहर फंसे हुए हैं तो इस कोरोनावायरस की महामारी में उनको वापस लाया जाए। उनको उनके घर तक वापस पहुंचाया जाए, क्योंकि लोकडौन के कारण प्रवासियों को आने जाने के लिए सुविधाएं रोक दी गई है। जिसकी वजह से वही फस गए हैं और दोबारा भारत नहीं आ पा रहे।

इसी के चलते सरकार ने अब यह फैसला किया है कि उनको विशेष तौर पर विशेष फ्लाइट से भारत वापस लाया जाएगा। जिसके अंतर्गत सिर्फ 200 से 300 यात्रियों को भी इजाजत है ताकि वह पंजीकरण के माध्यम से दोबारा भारत आ सके। बहुत सारे यात्रियों ने पंजीकरण भी करवा दिया है और सूत्रों के मुताबिक यह भी पता चला है कि 10,000 से ज्यादा लोग कोरोना चपेट में आ चुके हैं। उसी के साथ साथ अधिकारियों का यह भी कहना है कि लगभग 84 लोगों की वहां मौत भी हो चुकी है।

Vande Bharat Mission Phase 3 की पात्रता

वंदे भारत मिशन फेस 3 का फायदा उठाने के लिए आवेदक इन बातों के लिए पात्र होना चाहिए।

  • पहला नियम यह है कि अगर कोई व्यक्ति जो बाहर देश में गया है यदि उसका वीजा खत्म होने वाला है, उसको तभी ही लाया जाएगा। अन्यथा जब तक यह महामारी कम नहीं हो जाती या नष्ट नहीं हो जाती तब तक शायद उसको भारत में नहीं लाया जाएगा उसको वही रहना होगा।
  • पंजीकरण करते समय आपकी जो भी जानकारी है उसको सही सही भरना है। क्योंकि सरकार आपकी सारी चीजों की पुष्टि करेगी उसके बाद ही आपको फ्लाइट की टिकट मिलेगी जिसके तहत आप भारत वापस आ सकते हैं।
  • भारत वापस आने के लिए पूरे डॉक्यूमेंट आपके पास होने चाहिए उसी के साथ साथ विशेष कारण भी होना चाहिए। आपके पास कोई विशेष कारण नहीं है तब भी आपको वही रहना होगा।
  • इन विशेष फ्लाइट में से दुबारा भारत लाए जाने वाले यात्रियों को की संख्या सिर्फ 200 से 300 है। जिस में भी यात्रियों को बड़ी सख्ती से सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना होगा।

वापस आने के लिए फ्लाइट का खर्चा कौन उठाएगा

Vande Bharat Mission Phase 3 में सरकार ने पहले ही यह स्पष्ट कह दिया है कि इन विशेष फ्लाइट्स का खर्चा यात्रियों को खुद ही उठाना होगा। यानी कि अगर कोई व्यक्ति इस विशेष फ्लाइट्स से लाभ उठाना चाहता है, और इसके तहत भारत वापस आना चाहता है, तब उसको अपनी जेब से खर्चा करना होगा।

सरकार इसमें कोई भी मदद नहीं करने वाली जिसके लिए सरकार ने पहले ही किराए की घोषणा कर दी है। भारत में वापस लौटने के लिए अलग-अलग प्रकार की राशि की सूची बताई गई है और यह अलग-अलग देशों से संबंध रखती है। उसी के साथ साथ भारत के अलग-अलग राज्यों पर भी निर्भर करती है। भारत वापस लौटने के लिए राशि की सूची नीचे दी गई है मुझे इस प्रकार है :-

भारत वापिस लौटने के लिए राशि की सूची

  • अमेरिका से लौटने के लिए ₹1लाख देने होंगे।
  • यूरोप से लौटने के लिए ₹50 हज़ार की दर तय की गई है।
  • शिकागो से हैदराबाद से लौटने के लिए लगभग 1 लाख रुपये देने होंगे।
  • शिकागो से दिल्ली आने के लिए लगभग ₹1लाख देने होंगे।
  • सनफ्रांससिस्को से लौटने के लिए भी ₹1लाख देने होंगे।
  • न्यूयॉर्क से भी आने के लिए यात्रियों को ₹1लाख रुपये देने होंगे।
  • लंदन से दिल्ली आने के लिए ₹50 हज़ार देने होंगे।
  • लंदन से बेंगलरू आने के लिए ₹50 हज़ार देने होंगे।
  • लंदन से मुंबई आने के लिए यात्रियों को ₹50 हज़ार देने होंगे।
  • लंदन से अहमदाबाद आने के लिए ₹50 हज़ार देने होंगे।

ऑपरेशन समुद्र सेतु Vande Bharat Mission Phase 3

इस मुश्किल घड़ी में प्रवासियों को भारत वापस लाने के लिए ऑपरेशन समुद्र सेतु एक तरीके का विशेष आइडिया है। जिसके भारतीय नौसेना ने बनाया है। इसके तहत समुद्र के राह से लोगों को भारत वापस लाया जाएगा। ऑपरेशन समुद्र सेतु में यात्रियों को आने से पहले उनका मेडिकल चेकअप करवाना होगा।उसके बाद ही यहां से लोग भारत वापस आ सकते हैं। उसी के साथ साथ ऑपरेशन में मेडिकल सुविधा भी उपलब्ध करवाई गई है।

भारतीय नौसेना द्वारा देशों से भारतीयों को वापस लाने के लिए यह समुद्र सेतु ऑपरेशन को चलाया जा रहा है। भारतीय नौसेना के पोत मगर और जलाशय मालदीप से भारतीय नागरिक को वापस ला रहा है। उसी के साथ साथ भारतीयों को वापस अपने देश लाने के लिए इसकी सूची तैयार की जा रही है। इसके सपोर्ट में भी सोशल डिस्टेंसिंग का भी सख्ती से पालन किया जाएगा।

Leave a Comment