आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 : Online Registration | Advantages & Eligibility

आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 | Aatm Nirbhar Bharat Abhiyan | पीएम मोदी आत्मनिर्भर भारत अभियान राहत पैकेज | आत्मनिर्भर भारत अभियान ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन | आत्म निर्भर योजना लाभ | Atma Nirbhar Bharat

Aatm Nirbhar Bharat Abhiyan : माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा 12 मई 2020 को आपदा के अवसर को बदलने के लिए राष्ट्र को संबोधित करते हुए एक राहत पैकेज आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 का आरंभ किया गया।  कोरोनावायरस महामारी संकट के चलते आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 निश्चित रूप से एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। तथा यह अभियान एक आधुनिक भारत की पहचान बनेगा। पीएम मोदी द्वारा आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 के तहत राहत पैकेज के अंतर्गत 20 लाख करोड़ रुपए की घोषणा की गई है। जो कि हमारे देश की जीडीपी का लगभग 10% है।

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपको आज में आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 के बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं। सरकार द्वारा इस अभियान के तहत की गई घोषणाओं के बारे में भी आपको आज इस आर्टिकल के माध्यम से जानकारी प्राप्त होगी।अगर आप भी इस अभियान से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारियों को प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे आज के इस आर्टिकल को अंत तक ध्यान पूर्वक जरूर पढ़ें।

आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020

Table of Contents

आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 क्या है?

इस आत्मनिर्भर योजना को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य देश के 130 करोड़ नागरिकों को आत्मनिर्भर बनाना है। ताकि हमारे देश का हर नागरिक संकट के समय में कदम से कदम मिलाकर साथ साथ चल सके और संकट से लड़ सके।तथा कोरोनावायरस महामारी को हराने में भी अपना योगदान प्रदान कर सके। आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 निश्चित रूप से हमारे देश को समृद्ध एवं संपन्न बनाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान प्रदान करेगा।तथा प्रधानमंत्री आर्थिक राहत पैकेज के सभी सेक्टरों की दक्षता बढ़ेगी और गुणवत्ता भी सुनिश्चित होगी।इस योजना के माध्यम से हमारे देश की अर्थव्यवस्था को भी 20 लाख करोड़ रुपए का संबल मिलेगा।

आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 नई अपडेट

जैसा कि आप सभी लोग जानते ही हैं कोरोनावायरस महामारी के चलते हुए लॉकडाउन से देश के बहुत से लोगों की आजीविका पर असर पड़ा है। नाई की दुकान , मोची,  पान की दुकान व कपड़े धोने की दुकानें, रेहड़ी, पटरी वालों की आजीविका पर भी लॉकडाउन असर पड़ा है। हमारे माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा इस समस्या को खत्म करने के लिए आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 के अंतर्गत एक नई योजना की घोषणा की गई है।प्रधानमंत्री जी द्वारा घोषणा की गई इस योजना का नाम है पीएम स्व निधि योजना।सरकार द्वारा इस योजना के तहत रेहड़ी पटरी वालों को ₹10000 का लोन लोन प्रदान किया जाएगा।इस योजना के तहत सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली ₹10000 की अल्पकालिक सहायता छोटे सड़क विक्रेताओं को अपना कार्य फिर से आरंभ करने में सक्षम बनाएगी। इस योजना के माध्यम से आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 को भी गति प्राप्त होगी।

Aatm nirbhar Bharat toll free number

केंद्र सरकार द्वारा आत्मनिर्भर भारत के अंतर्गत स्कूल तथा उच्च शिक्षण के छात्राओं के लिए टोल फ्री नंबर को जारी किया गया है।केंद्र सरकार द्वारा जारी किया गया टोल फ्री नंबर 8448440632 है। अगर देश के नागरिक अपने बच्चों की पढ़ाई से संबंधित किसी भी समस्या का सामना कर रहे हैं। तो वह इस नंबर पर संपर्क करके अपनी समस्या का समाधान पा सकते हैं। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री द्वारा इस मनोदर्पण योजना का आरंभ मंगलवार को किया गया है। इससे पहले 17 मई को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा आत्मनिर्भर भारत के अंतर्गत मनोदर्पण का आरंभ करने की घोषणा की गई थी।

आत्मनिर्भर भारत योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन : Click here

आत्मनिर्भर भारत ऐप

4 जुलाई 2020 को लिंकेडन की एक पोस्ट में लिंक साझा करते हुए हमारे देश के माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा ट्वीट करते हुए @GoI_MeitY और @AIMtoInnovate  आत्‍मनिर्भर भारत ऐप इनोवेशन चैलेंज को लॉन्च किया है।आत्मनिर्भर भारत मिशन के अंतर्गत आत्मनिर्भर भारत ऐप को स्टार्टअप तथा टेककम्युनिटी को सहायता प्रदान करने के लिए लांच किया गया है।इलेक्ट्रॉनिक्स तथा सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर जी प्रसाद द्वारा ट्वीट में बताया गया है कि प्रधानमंत्री जी द्वारा इस ऐप का  आरंभ भारतीय एप निर्माताओं तथा नवोन्मेषकों को प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए किया गया है। देश के युवाओं को भी इस ऐप के माध्यम से आगे बढ़ने के लिए प्रेरणा प्रदान की जाएगी।हमारे माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा कहा गया है कि भारत में एक गतिशील प्रौद्योगिकी तथा स्टार्टअप परिस्थितिकी तंत्र है।जिसने भारत को राष्ट्रीय स्तर पर ही नहीं बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी गौरवान्वित किया है।

आत्मनिर्भर भारत एप इन्नोवेशन चैलेंज

चीन के 59 एप्स को भारत द्वारा डिजिटल स्ट्राइक करते हुए बैन कर दिया गया है। इसके पश्चात आत्मनिर्भर भारत ऐप को भारत सरकार द्वारा लांच किया गया। आत्मनिर्भर भारत एप इनोवेशन  चैलेंज दो ट्रैकर काम करेगा।ट्रक 1 वह होगा जो मिशन मोड में कार्य करते हुए अच्छी क्वालिटी  ऐप की पहचान करेगा। तथा ट्रैक 2 के अंतर्गत नए एप्स तथा प्लेटफार्म का निर्माण करने के लिए आईडिएशन के स्तर से लेकर बाजार की पहुंच तक सुविधा प्रदान की जाएंगी।

पीएम नरेंद्र मोदी जी द्वारा की गई नई घोषणा

हमारे देश के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा देश को योजना के द्वारा और मजबूत बनाने के लिए एक नई घोषणा की गई है।जिससे कि हमारे देश में कोरोनावायरस महामारी के कारण बिगड़ी अर्थव्यवस्था को सुधारा जा सके। तथा भारत देश के नागरिकों को आत्मनिर्भर बनाया जा सके। माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) की सलाना बैठक को संबोधित किया गया।इस बैठक के माध्यम से प्रधानमंत्री जी द्वारा कहा गया है कि हमारी सरकार देश के प्राइवेट सेक्टर को विकास यात्रा में साझेदार मानती है। हमें भारत को फिर से तेज विकास के पथ पर लाने के लिए आत्म निर्भर भारत बनाने के लिए पांच चीजें बहुत ही आवश्यक है।उन पांच  चीजों की सूची आपको नीचे दी गई है

  • इंटेंट यानी इरादा
  • इन्क्लूजन यानी समावेशन
  • इन्वेस्टमेंट यानी निवेश
  • इन्फ्रास्ट्रक्चर यानी बुनियादी ढांचा
  • इनोवेशन यानी नवोन्मेष

3 माह में पीपीआई किट की सैकड़ों करोड़ की इंडस्ट्री

हमारे देश के माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा कहा गया है कि अब तो ग्रामीण क्षेत्रों के पास ही लोकल एग्रो प्रोडक्ट्स के क्लस्टर के लिए जरूरी इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किए जा रहे हैं। इसके अंतर्गत CII के अनेक सदस्यों को बहुत से अवसर प्रदान किए गए हैं।भारत उद्यमियों द्वारा पिछले 3 महीनों में पीपीआई की करोड़ों की इंडस्ट्री खड़ी की गई है । प्रधानमंत्री जी द्वारा कहा गया है कि हमारे देश में मेक इन इंडिया को रोजगार का बड़ा साधन बनाने के लिए कई प्राथमिक सेक्टर्स की पहचान की गई है।उनके द्वारा यह भी कहा गया है कि अब तक तीन सेक्टरों पर कार्य भी शुरू किया जा चुका है। पीएम मोदी जी द्वारा यह भी कहा गया है देश में ऐसे उत्पादों की जरूरत है। जो मेड इन इंडिया तथा मेड फॉर द वर्ल्ड हो।

नेशनल पेंशन योजना 2020 : Click here

महत्वपूर्ण जानकारी आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 राहत पैकेज

योजना का नामआत्मनिर्भर भारत अभियान
किसके द्वारा आरंभ की गईप्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी
योजना का प्रकारकेंद्र सरकार
लाभार्थीदेश का प्रत्येक नागरिक
उद्देश्यसमृद्ध और संपन्न भारत निर्माण
आरंभ की तिथि12 मई 2020
पैकेज की धनराशि20 लाख करोड़ रुपए
ऑफिशियल वेबसाइटhttps://www.pmindia.gov.in/en/

Aatm Nirbhar Bharat Abhiyan New Update

जैसा कि आप सभी लोग जानते ही हैं कोरोनावायरस महामारी के चलते पूरे देश में लोक डाउन हो गया था। इस लॉकडाउन का  बुरा असर सबसे ज्यादा देश के सूक्ष्म, लघु तथा मध्यम उद्योगों ,श्रमिकों ,मजदूरों तथा किसानों को हुआ है।देश के इन सभी नागरिकों को लाभ प्रदान करने के लिए। हमारे देश के माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा देश के सूक्ष्म ,लघु तथा मध्यम उद्योगों ,श्रमिकों ,मजदूरों तथा किसानों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए एक आर्थिक पैकेज की घोषणा की गई है।सरकार द्वारा चयन किए गए इन सभी लाभार्थियों को इस योजना के सबसे बड़ी सहायता राशि प्रदान की जाएगी। यह सहायता राशि आर्थिक पैकेज के रूप में प्रदान की जाएगी।हमारा भारत देश केंद्र सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली इस मदद की सहायता से एक नई ऊंचाई की तरफ जाएगा।

एमएसएमई के अंतर्गत की गई 16 घोषणाएं

कोविड-19 महामारी के चलते हमारे देश तथा दुनिया के सामने बहुत से संकट खड़े हैं। तथा इसी चुनौती के वक्त में केंद्र सरकार द्वारा देश को अग्रसित करने के लिए सूक्ष्म लघु मध्यम वर्गीय गृह उद्योग(MSMEs) के लिए 16 घोषणा की गई है। वह 16 घोषणाएं आपको नीचे दी गई है। वैसे हम आपको बता दें कि एमएसएमई  देश के 12 हजार करोड़ से ज्यादा लोगों को रोजगार प्रदान करती है। हमारे देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। आइए हम जानते हैं सरकार द्वारा इसके अंतर्गत कौन सी घोषणाएं की गई हैं

  • MSMEs सहित व्यापार के लिए रुपये 3 लाख करोड़ संपार्श्विक नि: शुल्क स्वचालित ऋण
  • 20000 करोड़ रुपए अधीनस्थ ऋण MSMEs के लिए
  • 5000 करोड़ रुपए का equity infusion MSMEs के फंड के द्वारा।
  • MSMEs की नई परिभाषा।
  • 200 करोड़ रुपए तक का ग्लोबल टेंडर।
  • MSMEs के लिए अन्य हस्तक्षेप।
  • व्यापारियों तथा श्रमिकों के लिए 3 महीने के लिए ढाई हजार करोड़ रुपए का ईपीएफ समर्थन।
  • व्यापारियों तथा श्रमिकों के लिए 3 महीने के लिए epf अंशदान कम हो गया है।
  • 30 हजार करोड़ पर की तरलता सुविधा NBFCS/HCs/MFIs के लिए
  • 45000 करोड़ रूपए की आंशिक क्रेडिट गारंटी योजना एनबीएफसी के लिए।
  • 90 हजार करोड़ रुपए की तरलता इंजेक्शन डिस्कॉम के लिए
  • ठेकेदारों को राहत
  • RERA के अंतर्गत रियल एस्टेट परियोजनाओं के तहत पंजीकरण तथा पूर्णता तिथि में विस्तार
  • TDS/ TCS कटौती के द्वारा 50000 करोड़ रुपए की तरलता।
  • अन्य कर उपाय

आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 के तेहत गरीब श्रमिकों तथा किसानों के लिए की गई मुख्य घोषणा

आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 के तहत 14 मई 2020 को गरीब श्रमिकों तथा किसानों के लिए घोषणा की गई है। गरीब श्रमिकों तथा किसानों के लिए की गई घोषणा नीचे दी गई है। आइए हम भी इन घोषणाओं के बारे में जानकारी प्राप्त करें:

  • किसानों और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को प्रत्यक्ष मदद प्रदान करने के लिए पोस्ट COVID-19।
  • पिछले 2 महीने के अंतर्गत प्रवासी तथा शहरी मजदूरों को मदद प्रदान करने के लिए।
  • वापस आने वाले प्रवासियों के लिए MGNRES सहायता
  • श्रम संहिता में बदलाव-श्रमिकों के लिए लाभ
  •  2 महीने में प्रवासियों के लिए मुफ्त भोजन की आपूर्ति
  • 2021- वन नेशन वन राशन कार्ड द्वारा भारत में किसी भी उचित मूल्य की दुकान से सार्वजनिक वितरण प्रणाली का इस्तेमाल करने के लिए प्रवासियों को सक्षम करने के लिए उपयोग की जाने वाली प्रौद्योगिकी प्रणाली
  • प्रवासी श्रमिकों शहरी गरीबों के लिए किफायती किराये के आवास परिसर।
  • 1500 करोड़ रुपए मुर्दा शिशु लोन के लिए।
  • 5000 करोड़ रुपए की विशेष क्रेडिट सुविधा स्ट्रीट वेंडर्स के लिए।
  • 70000 करोड रुपए सीएसएस के विस्तार द्वारा आवास क्षेत्र तथा मध्यम आय वर्ग को बढ़ावा देने के लिए।
  • 6000 करोड़ कैंपा फंड का उपयोग करके रोजगार को धक्का देने के लिए।
  • किसानों को नाबार्ड के द्वारा 30000 करोड रूपए की अतिरिक्त आपातकालीन कार्यशील पूंजी गत निधि।
  • ढाई करोड़ किसानों को बढ़ावा देने के लिए किसान क्रेडिट कार्ड द्वारा 2 लाख रुपए।

किसानों की आय दोगुनी करने के लिए की गई 11 घोषणाएं

कोरोनावायरस महामारी के चलते किसानों की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए। केंद्र सरकार द्वारा आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 के तहत देश के किसानों को आय दोगुनी करने के लिए 11 प्रकार की घोषणा की गई है।

  • 11 लाख करोड़ रुपए का कोश कृषि अवसंरचना की स्थापना करने के लिए
  • एक नई योजना जिसकी कीमत 10 हजार करोड़ रुपए है। सूक्ष्म खाद्य उद्यमों के एक औपचारिक करण के उद्देश्य के लिए की गई है।
  • मछुआरों के लिए दो करोड़ रुपए प्रधानमंत्री मातृ संपदा योजना के अंतर्गत आवंटित किए गए हैं।
  • 15 हजार करोड़ रुपए का सेटअप पशुपालन के लिए बुनियादी ढांचे के विकास के लिए
  • केंद्र सरकार द्वारा 4000 करोड़ रुपए हर्बल खेती के लिए आवंटित किए जाएंगे।
  • 500 करोड़ पर मधुमक्खी पालन की पहल के लिए अलग रख दिए गए हैं।
  • सभी फलों तथा सब्जियों को कवर करने के लिए ऑपरेशन ग्रीन का विस्तार करने के लिए 500 करोड़ रुपए।
  • कुछ आवश्यक वस्तु जैसे कि अनाज, खाद्य, तेल, तिलहन ,दाल ,प्याज और आलू आदि में संशोधन लाया जाएगा।
  • कृषि विपणन सुधारों को एक नए कानून के द्वारा लागू किया जाएगा जिससे  अंतरराजीय व्यापारी के लिए  बाधाओं  दूर होंगी
  • सुविधात्मक कृषि उपज के द्वारा किसानों को मूल्य तथा गुणवत्ता आश्वासन प्रदान किया जाएगा।

चौथा तथा पांचवा ट्रांच

  • ज्यादा दस्त संख्यात्मक सुधारों से जुड़ा था कुल मिलाकर 48100 करोड़ था।
  • वायबिलिटी गैप फंडिंग ₹ 8,100 करोड़
  • अतिरिक्त MGNREGS 40,000 करोड़

पीएम मोदी आत्मनिर्भर योजना

जैसा कि आप सभी लोग जानते ही हैं भारत हमेशा से बहुत ही बड़ी बड़ी जानलेवा बीमारियां जैसे कि टीवी ,पोलियो, कुपोषण से लड़ता आया है।पहले की भांति इस बार भी हमारा संकल्प कोरोनावायरस महामारी को हराना है।तथा विश्व के कल्याण के लिए फिर से अपनी महत्वपूर्ण भूमिका को निभाना है।किसी भी देश को विकास की ओर ले जाने के लिए तथा उसे आत्म निर्भर बनाने के लिए मुख्यता पांच चीजों की जरूरत होती है।

वह पांच चीजें के नीचे दी गई है:

  • अर्थव्यवस्था
  • आधारिक संरचना
  • प्रणाली
  • जनसांख्यिकी
  • मांग तथा आपूर्ति

आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 नई अपडेट

इस अभियान के तहत देश की जिन महिलाएं को‌ उज्जवला योजना के अंतर्गत फ्री सिलेंडर का लाभ प्रदान किया जा रहा है। पेट्रोलियम तथा इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने उन सभी महिलाओं से वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से बात की। देश में कोरोना के कारण चलते लॉकडाउन के तहत केंद्र सरकार द्वारा 28000 उज्जवला योजना सिलेंडर महिलाओं को बांटे गए हैं। तथा 8432 करोड़ की राशि हितग्राहियों के खाते में सीधे ट्रांसफर करके उन्हें लाभ प्रदान किया गया है।

उज्जवला योजना के अंतर्गत जिन महिलाओं को लाभ प्राप्त हो रहा है।उन महिलाओं को अब लोकल प्रोडक्ट्स का ब्रांड एंबेसडर बनाया जाएगा।जैसा कि आप सभी लोग जानते ही हैं मोदी सरकार देश की अर्थव्यवस्था को बढ़ाने के लिए स्वदेशी पर ज्यादा जोर देती हैं।यही कारण है कि हमारे देश में बने उत्पादों के लिए बड़े पैमाने का माहौल तैयार किया जा रहा है। उज्जवला योजना का लाभ प्राप्त करने वाली महिलाओं के जागरूकता अभियान को भी इस कांफ्रेंस बैठक में सराहा गया।

आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 के संकल्प

  • कोरोनावायरस महामारी संकट के चलते नए संकल्प के साथ हमारे देश को विकास के नए  नए दौर में ले जाने के लिए देश के विभिन्न वर्गों को एक साथ जोड़ा जाएगा।
  • तथा देश को विकास यात्रा के लिए एक नई गति प्रदान की जाएगी।
  • आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 के तहत देश के मजदूर, श्रमिक, किसान, लघु उद्योग, कुटीर उद्योग ,मध्यम वर्गीय उद्योग सभी पर विशेष ध्यान केंद्रित किया जाएगा तथा बल दिया जाएगा।
  • इस पैकेज के तहत देश के सभी उद्योगों को 20 लाख करोड़ रुपए की सहायता प्रदान की जाएगी।
  • यह सहायता देश के गरीब नागरिकों के लिए आजीविका का साधन बनेगी।
  • यह पीएम मोदी राहत पैकेज मुख्यता देश के उत्तरी श्रमिक व्यक्ति के लिए बनाया गया है।
  • जो समय एक व्यक्ति हमारे देश के लिए हर  स्थिति में प्रशिक्षण करते हैं।
  • तथा हमारे देश को बुलंदी की ओर ले जाने के लिए अग्रसर करते हैं।

आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020 के लाभार्थी

  • देश का गरीब नागरिक
  • श्रमिक
  • प्रवासी मजदूर
  • पशुपालक
  • मछुआरे
  • किसान
  • संगठित क्षेत्र व असंगठित क्षेत्र के व्यक्ति
  • काश्तकार
  • कुटीर उद्योग
  • लघु उद्योग
  • मध्यमवर्गीय उद्योग

पीएम मोदी राहत पैकेज के लाभ

  • इस राहत पैकेज का लाभ 10 करोड़ मजदूरों को होगा।
  • MSME से जुड़े 11  करोड़ कर्मचारियों को लाभ प्राप्त होगा।
  • इसका लाभ इंडस्ट्री से जुड़े 3.8 करोड़ लोगों को भी प्राप्त होगा।
  • टेक्सटाइल इंडस्ट्री से जुड़े हुए 4.5 करोड़ कर्मचारियों को भी लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • पीएम मोदी राहत पैकेज हमारे कुटीर उद्योग ,गृह उद्योग, हमारे लघु मझोले उद्योग ,हमारे एमएसएमई के लिए हैं।
  • यह सारे उद्योग हमारे देश के करोड़ों लोगों की आजीविका का साधन है।
  • इस आर्थिक पैकेज में गरीब मजदूरों को तो फायदा प्रदान किया ही जाएगा।
  • साथ ही होटल तथा टैक्सटाइल जैसी इंडस्ट्री से जुड़े कर्मचारियों को भी लाभ प्रदान किया जाएगा।

भारत अभियान राहत पैकेज के अंतर्गत महत्वपूर्ण क्षेत्र

  • कृषि प्रणाली (Reformation Of Agricultural Supply Chain & System)
  • सरल और स्पष्ट नियम कानून (Rational Tax System)
  • उत्तम आधारिक संरचना (Reformation Of Infrastructure)
  • समर्थ और संकल्पित मानवाधिकार ( Capable Human Resources)
  • बेहतर वित्तीय सेवा (A Good Financial System)
  • नए व्यवसाय को प्रेरित करना (To Motivate New Business)
  • निवेश को प्रेरित करना (Provide Good Investment Opportunities)
  • मेक इन इंडिया (Make In India Mission)

Conclusion

आत्मबल तथा आत्मविश्वास द्वारा ही आत्मनिर्भर को संभव बनाया जा सकता है। आइए हम सब देश के नागरिकों के साथ मिलकर देश के विकास में अपना महत्वपूर्ण योगदान दें तथा वैश्विक आपूर्ति चयन में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाए।दोस्तों जैसा कि आप सभी लोग जानते ही हैं आज देश के सामने कोरोनावायरस महामारी के रूप में एक बहुत बड़ी चुनौती आ खड़ी हुई है। हमारे देश भारत की संस्कृति तथा संस्कार हमें संसार में सुख सहयोग और शांति की चिंता सिखाती है। आइए हम सब देशवासी मिलकर पूरी संकल्प शक्ति के साथ इस कोरोनावायरस महामारी का सामना करने का फैसला लें।और भारत को विकास की दिशा में अग्रसर करने के लिए अपना महत्वपूर्ण योगदान प्रदान करें।

दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में हमने आपको आत्मनिर्भर भारत अभियान 2020   के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की| हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा आज का यह आर्टिकल अवश्य ही पसंद आएगा| यदि आप इस आर्टिकल से संबंधित किसी भी प्रकार का कोई प्रश्न पूछना चाहते  हैं तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके भी पूछ  सकते हैं| हम अवश्य ही आपके प्रश्नों का उत्तर प्रदान करेंगे| हमारे इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद|

For more info : Click here

Leave a Comment